बीएड लीगल टीम की कलम से सुप्रीकोर्ट अपडेट

बीएड लीगल टीम की कलम से 30 जून 2020

रोज नए नए शगूफे लाते हैं अपने मूक बधिर दर्शकों के मनोरंजन के लिए
साथियों कल से बीएड विरोधी पटना हाईकोर्ट के एक आदेश का हवाला देकर ये प्रोपोगेंडा काट रहे हैं कि पटना से बीएड प्राथमिक से बाहर हो गया है
अब इन नासूरो कि हकीकत देख लीजिए जिस रिट
CWJC-6382/2020 22 जून को फाइल की गई जिसपर संभवतः कोई डिफेक्ट आया जिससे इसकी सुनवाई तिथि 23 जून माननीय सीजे कोर्ट में निर्धारित की गई किंतु पटना हाईकोर्ट कि साइट पर जाकर देखने से पता चला कि 23 जून को भी मामले कि सुनवाई नहीं हुई और कोई नोटिस आदि भी नहीं जारी हुआ और सीधे 26 जून को मामला खारिज कर दिया गया जिसका कि आदेश भी पटना हाईकोर्ट कि साइट पर उपलब्ध नहीं है (*#स्क्रीनशॉटअटैच_हैं)

अब आते हैं वर्ष 2019 पर जिस वर्ष में CWJC-24587/2019 संख्या से बीएड को बाहर करने और बीटीसी डीएलएड कि वरीयता के लिए एक रिट फाइल की गई थी जिसपर दिया गया आदेश आज भी न्यायालय कि साइट पर उपलब्ध है जिसपर आदेश हुए माननीय न्यायालय ने साफ कहा था कि –
किसी भी अर्हता और वरीयता को देने का काम सरकार या एनसीटीई का है इसपर कोर्ट कोई निर्णय नहीं कर सकता है और ऐसा कुछ भी कोर्ट के सामने नहीं आया जिससे हम वरीयता या अर्हता के बारे में विचार करें
और रिट को खारिज कर दिया गया (*#स्क्रीनशॉटअटैच_है)

*#निष्कर्ष- साथियों हमें लगता है कि यह 22 जून का मामला भी 2019 के बेस पर खारिज कर दिया गया है
अब कुछ चीजें बीएड विरोधियों का सहयोग करने वालों के बारे में
आप किसी भी इंसान को एक रूपया भी देते हैं तो कम से कम उसकी बातें और उसकी सच्चाई को स्वयं कसौटी पर कसकर देख लिया करें आपका लिया हुआ पैसा सिर्फ और सिर्फ निज स्वार्थ में बीएड विरोधियों द्वारा प्रयोग किया जा रहा है
(साक्ष्य सामने है)
यदि कोई कहता है कौवा कान ले गया तो कौवा देखने के पहले अपना कान देखना आवश्यक होता है कि वास्तव में कान जगह पर हैं या नहीं

अधिक से अधिक शेयर करें और धोखेबाजों से सचेत रहें

*#विशेष- 28 जून 2018 के बाद बीएड अंगद के उस पैर कि तरह प्राथमिक में जम चुका है जो अब हिलने वाला नहीं है

*#बीएडलीगलटीम
*#अंशुमान_सिंह
*#धन्यवाद

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *