69000 सहायक शिक्षक भर्ती में धांधली की CBI जांच की PIL खारिज

हाईकोर्ट की लखनऊ पीठ ने प्रदेश के प्राथमिक विद्यालयों में 69000 शिक्षक भर्ती मामले में सीबीआई जांच कराए जाने की मांग वाली जनहित याचिका को पर्याप्त साक्ष्यों के अभाव में खारिज कर दिया है l

न्यायमूर्ति पंकज कुमार जायसवाल और न्यायमूर्ति करुणेश सिंह पवार की खंडपीठ ने यह आदेश अधिवक्ता सत्येंद्र कुमार सिंह की जनहित याचिका पर सुनाया है l

याची पक्ष द्वारा भर्ती परीक्षा में कथित शिक्षा माफिया गैंग, सॉल्वर गैंग सहित पर्दे के पीछे से भ्रष्टाचार का खेल खेलने वाले सरकारी कर्मियों की भूमिका उजागर करने के लिए सीबीआई से इसकी जांच कराने के निर्देश सरकार को दिए जाने की गुजारिश की थी l

याची आरोप था शिक्षक भर्ती में बड़े पैमाने पर वसूली कर घोटाले को अंजाम दिया गया है l इसलिए यह पर भर्ती परीक्षा निरस्त की जानी चाहिए l

राज्य सरकार की ओर से याचिका का विरोध करते हुए महाधिवक्ता राघवेंद्र सिंह ने दलील दी कि यह घटना प्रयागराज में हुई है और वह एसटीएफ ने संबंधित लोगों को गिरफ्तार किया है l ऐसे में याची इसे लेकर प्रयागराज में एसटीएफ को अर्जी दे सकता था l

इस मामले की तफ्तीश एसटीएफ के द्वारा की जा रही है और कई लोगों को गिरफ्तार भी किया गया है l लिहाजा यह याचिका प्रीमेच्योर है l यह सुनवाई किए जाने लायक नहीं है और खारिज किए जाने योग्य हैl

इस घटना पर कोर्ट ने याचिका को ग्रहण करने से इनकार करते हुए याची को इसे वापस लेने और बेहतर ब्योरे के साथ फ्रेस पेटिशन दाखिल करने की छूट भी दी है l

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *