62 वर्ष पूरी कर चुकी आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं की सेवा होगी समाप्त

  • शासन इसे वित्तीय अनियमितता मानते हुए तत्काल रोक लगाने को कहा है l
  • ड्यूटी पर रोक के बावजूद प्रदेश में 25 फ़ीसदी कार्यकर्ता मिली 62 के पार l
  • 4 सितंबर 2012 में जारी शासनादेश का भी उल्लंघन किया जा रहा है l

प्रदेश सरकार ने 62 वर्ष की आयु सीमा पूरी करने वाले आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं की सेवा समाप्त करने का फैसला किया है l साथ में आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के क्रियाकलापों की जांच भी कराई जाएगी l शासन की लगातार यह शिकायत मिल रही है कि सरकार के दिशा निर्देश के विपरीत अब भी 62 वर्ष से अधिक आयु की आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं से सेवा ली जा रही है और उनको मानदेय दिया जा रहा है जिसे शासन ने वित्तीय अनियमितता माना है l

दरअसल प्रदेश में आंगनवाड़ी केंद्रों के जरिए बाल विकास सेवा एवं पुष्टाहार विभाग द्वारा बच्चों, किशोरियों व गर्भवती महिलाओं के लिए कई कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं l इन सभी कार्यक्रमों को अंजाम तक पहुंचाने की जिम्मेदारी आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को सौंपी गई है l

सरकार द्वारा आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को स्मार्टफोन भी उपलब्ध कराया गया है l लेकिन, विभागीय समीक्षा में यह पाया गया है कि बहुत ही आंगनवाड़ी केंद्रों को ना तो संचालन किया जा रहा है या ना ही पोषाहार वितरण से संबंधित नियमित रिपोर्ट ही उपलब्ध कराई जा रही है l इसी तरह विभाग द्वारा उपलब्ध कराए गए स्मार्टफोन का भी उपयोग नहीं किया जा रहा है l

वही आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं, मिनी आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं और सहायिकाओं की नियुक्ति के लिए चयन प्रक्रिया के संबंध में 4 सितंबर 2012 में जारी शासनादेश का भी उल्लंघन किया जा रहा है

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *