Governor of India (भारत का राज्यपाल )

Governor of India ( भारत का राज्यपाल )

Governor of India (Governor of India)
राज्य में राज्यपाल की स्थिति ठीक उसी प्रकार होती है जिस प्रकार केंद्र में राष्ट्रपति की होती है।

भारतीय संविधान के अनुच्छेद 153 के अनुसार , राज्य के लिए एक राज्यपाल होना चाहिए तथा राज्यपाल राज्य का प्रथम व्यक्ति होता है।

राज्यपाल की नियुक्ति अनुच्छेद 155 के तहत राष्ट्रपति द्वारा प्रत्यक्ष विधि से की जाती है , परन्तु सातवे संविधान संशोधन 1956, के अनुसार राज्यपाल एक से अधिक राज्यों मे नियुक्त हो सकता है ।

राज्यपाल का कार्यकाल अनुच्छेद 156 तहत जानकारी दी गई :-

1956(1) राज्यपाल अपने नियुक्ति के दिन से लेकर राष्ट्रपति के प्रसाद पर्यंत तक अपने पद पर बना रह सकता है।
:- 1956(2) राज्यपाल अपना त्यागपत्र राष्ट्रपति के पास भेज कर पद मुक्त हो सकता हैं ।
:- 1956 (3) राज्यपाल 5 वर्ष तक अपने पद पर बना रह सकता है।

राज्यपाल की नियुक्ति 5 वर्ष के लिए की जाती है , परंतु जब तक उसका उत्तराधिकारी नियुक्त नहीं हो जाता वह तब तक इस पद पर बना रहता है।

राज्यपाल की आवशयक योग्यता :-

भारतीय संविधान के अनुच्छेद 157 तथा 158 के अनुसार राज्यपाल की योग्यताओं का वर्णन किया गया है :-
:- भारत का नागरिक होना चाहिए
:- किसी भी लाभ के पद पर ना हो
:- अपनी उम्र 35 वर्ष पूर्ण कर चुका हूं
:- राज्य से बाहर का निवासी हो

वेतन व भत्ते :- ( Governor of India )

अनुच्छेद 158 (3)(4) में राज्यपाल के वेतन तथा भत्ते आदि दिए हुए हैं :-
:- राज्यपाल का मासिक वेतन ₹110000 हैं
:- राज्यपाल का भत्ता वेतन राज्य की संचित निधि से प्राप्त होता है

राज्यपाल की शपथ :- (Governor of India )

– राज्यपाल को उसके पद की शपथ उस राज्य के उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश दिलाता है । मुख्य न्यायाधीश अनुपस्थित हो तो उस राज्य का उच्चतम न्यायालय के वरिष्ठ न्यायाधीश शपथ दिलाता है।

राज्यपाल की अनुपस्थिति में राज्य का मुख्य न्यायाधीश उसका पद संभालता है।

राज्य के मुख्यमंत्री की नियुक्ति राज्यपाल द्वारा की जाती है ।

राज्य सरकार को राज्यपाल भंग कर सकता है।

अनुच्छेद 161 के अनुसार राज्य की कार्यपालिका शक्ति के अधीन विषयों पर राज्यपाल किसी व्यक्ति की सजा को कम कर सकता है , क्षमा कर सकता है।

राज्यपाल किसी व्यक्ति की मृत्यु दंड को क्षमा नहीं कर सकता।

राज्यपाल राज्य के लिए महाधिवक्ता, राज्य लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष तथा उनके सदस्यों की नियुक्ति करता है।

भारत की प्रथम राज्यपाल महिला सरोजिनी नायडू थी।

राज्यपाल राज्य की कार्यपालिका का प्रमुख होता है।

राज्यपाल अपने राज्य के सभी विश्वविद्यालय का कुलपति ही होता है।

राज्यपाल, राज्य का संवैधानिक की प्रमुख होता हैं l

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *