संस्कृत विश्वविद्यालय की डिग्री वाले शिक्षकों पर कसा शिकंजा

संस्कृत विश्वविद्यालय की डिग्री वाले शिक्षकों पर कसा शिकंजा

प्रदेश में फर्जी शिक्षकों की धरपकड़ के लिए शासन लगातार सख्ती बरत रहे पहले आगरा विश्वविद्यालय और अब संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय वाराणसी की फर्जी डिग्री के आधार पर परिषदीय विद्यालय में नौकरी प्राप्त करने की शिकायत मिली है l

इसे देखते हुए शासन की ओर से प्रत्येक जिलों में ऐसे शिक्षकों की सूची 10 जुलाई तक मंगवाई गई है जिन्होंने संपूर्णानंद विश्वविद्यालय या संबंध महाविद्यालय से पूर्व माध्यमिक, उच्चतर माध्यमिक, शास्त्री और शिक्षा शास्त्री की डिग्री के आधार पर परिषदीय विद्यालय में नौकरी पाई हो l
शिक्षा निदेशक ने बेसिक शिक्षा अधिकारियों से 2004 से 2014 तक का रिकॉर्ड उपलब्ध कराने को कहा है l

गोरखपुर BSA भूपेंद्र नारायण सिंह ने कहा कि शासन का पत्र मिला है अभिलेखों की जांच कर संपूर्णानंद विश्वविद्यालय से प्राप्त डिग्री धारियों की सूची बनाई जा रही है l 10 जुलाई तक सूची शासन को भेज दी जानी है l

अनुमान के अनुसार गोरखपुर के डेढ़ सौ शिक्षक जांच के दायरे में हैं एसआईटी की जांच में लगभग 3637 छात्रों के नाम पर B.Ed की फ़र्ज़ी डिग्री जारी होने की बात सामने आयी है l

1024 अंक पत्रों मे छेड़छाड़ मिली है तथा 45 मामलों मे एक ही रोल नंबर पर परीक्षा देने की बात सामने आयी है
बेसिक शिक्षा विभाग में संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय की डिग्रियों में फर्जीवाड़ा की आशंका पर अब इस मामले की जाँच का आदेश दिया है

1 thought on “संस्कृत विश्वविद्यालय की डिग्री वाले शिक्षकों पर कसा शिकंजा”

  1. Pingback: प्राइमरी का मास्टर : संयुक्त लीगल टीम 69000 अधिवक्ताओं का पैनल - CTET & UPTET

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *